Fact :  इन 5 वजहों से न खरीदें Royal Enfield Bullet

भारत में जब 350 सीसी बाइक्स की बात आती है तो रॉयल एनफील्ड का नाम सबसे पहले लिया जाता है।

होंडा से लेकर जावा तक इस सेगमेंट में नंबर वन बनने की कोशिश कर रही है, लेकिन ग्राहक सबसे ज्यादा रॉयल एनफील्ड की बाइक्स खरीद रहे हैं।

अगर आप भी Royal Enfield की बाइक खरीदने की सोच रहे हैं तो थोड़ा इंतजार कर लीजिए।

यहां हम आपको इस कंपनी की बाइक्स में पाई जाने वाली ऐसी ही 5 कमियों के बारे में बता रहे हैं, जो आपको अपना फैसला बदलने पर मजबूर कर सकती हैं

वैसे तो बाजार में सभी मोटरसाइकिल्स की कीमत काफी बढ़ गई है, लेकिन रॉयल एनफील्ड बाइक्स और भी महंगी हैं

कंपनी की सबसे सस्ती बाइक आपको 1.5 लाख रुपये में मिल जाएगी। क्लासिक, हिमालयन या उल्का खरीदने जाएंगे तो 2 से 2.50 लाख रुपए खर्च होंगे

Royal Enfield की बाइक्स की कीमत भले ही ज्यादा हो लेकिन उस लेवल के फीचर्स नहीं देतीं

Royal Enfield Bullet से लेकर Classic तक आपको LED लाइटिंग देखने को नहीं मिलती है।

न ही इनमें डिजिटल स्पीडोमीटर या डिजिटल क्लॉक जैसे फीचर मिलते हैं। ट्रिपर नेविगेशन के फीचर को अलग से लेना होगा।

रॉयल एनफील्ड बाइक्स की तीसरी बड़ी कमी यह है कि ये वजन में काफी भारी होती हैं।

आमतौर पर इन बाइक्स का वजन 190 से 195 किलोग्राम तक होता है। शहर के ट्रैफिक में इन बाइक्स को कंट्रोल करना कुछ लोगों के लिए मुश्किल हो सकता है।

इन बाइक्स की सीट हाइट भी छोटे कद वालों के लिए मुश्किल खड़ी कर सकती है

जहां भारतीय बाजार में मौजूद कुछ बाइक्स 80 kmpl से लेकर 100 kmpl तक का माइलेज भी दे रही हैं।

ऐसे में Royal Enfield की बाइक्स 30 से 35kmpl का ही माइलेज दे सकती हैं. यानी कुछ मामलों में रॉयल एनफील्ड की बाइक्स का माइलेज हैचबैक कारों जितना ही होता है।