दिल्ली में पेट्रोल-डीजल चाहिए तो तुरंत बनवाएं 60 रुपये का ये सर्टिफिकेट

दिल्ली में पेट्रोल-डीजल चाहिए तो अब सर्टिफिकेट दिखाना होगा। दिल्ली सरकार नया नियम लेकर आई है

नियम के तहत राजधानी के पेट्रोल पंपों पर बिना पीयूसी (प्रदूषण नियंत्रण) सर्टिफिकेट के पेट्रोल-डीजल नहीं मिलेगा.

सरकार का यह नियम 25 अक्टूबर से लागू हो जाएगा, लेकिन बेहतर होगा कि आप अभी से सर्टिफिकेट बनवा लें

क्योंकि इसके बिना आप 10 हजार रुपये का चालान भी काट सकते हैं और जेल भी हो सकती है. खास बात यह है कि इसे बनाने में महज 60 रुपये का खर्च आता है।

दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने शनिवार को कहा कि राष्ट्रीय राजधानी के पेट्रोल पंपों पर 25 अक्टूबर से बिना पीयूसी (प्रदूषण नियंत्रण परीक्षण) प्रमाणपत्र के पेट्रोल और डीजल उपलब्ध नहीं कराया जाएगा।

ऐसा दिल्ली में प्रदूषण के स्तर को कम करने के लिए किया जा रहा है. राय ने कहा, "दिल्ली में प्रदूषण के स्तर में वृद्धि के लिए वाहन उत्सर्जन काफी हद तक जिम्मेदार है।

दिल्ली के परिवहन विभाग के अनुसार, जुलाई 2022 तक, 13 लाख दोपहिया और तीन लाख कारों सहित 17 लाख से अधिक वाहन बिना वैध पीयूसी प्रमाण पत्र के सड़कों पर चल रहे थे।

यदि किसी चालक के पास वैध पीयूसी प्रमाणपत्र नहीं पाया जाता है, तो उसे मोटर वाहन अधिनियम के अनुसार 6 महीने के कारावास या 10,000 रुपये के जुर्माने या दोनों से दंडित किया जा सकता है।